बकरसुरी

1 minute read

Republished at Posham Pa

This is a translation of Lewis Carroll’s poem Jabberwocky. This particular version was cleaned up for PG-13 consumption 1 (doesn’t change much, only took one word out). This is annotated, hover over words for their root words or meaning.

One fine evening I was browsing /r/linguistics and came across a question about how sounds and nonsense words are translated between languages. This thread was incredibly helpful and a great impetus for this translation.

Jabberwocky is a poem by Lewis Carroll. It has a great toneful and rhythmic structure but with words that are entirely made up. Hindi is a phonetically beautiful language and something like Jabberwocky which plays a lot with portmanteaus and nonsense words was a fun exercise to translate in this language.

बकरसुर

अनुवादक, अर्जिता मितल और शैलेन्द्र पालीवाल

खाचार समय था चातले बीजू,
घुमराते, गर्माते, मॆत में
दुजोर थे सारे दुर्बळु,
और खुम सीव भी थे शोम में

“रहना सतर्क बकरसुर से तुम!
जिसके नोकीले हैं दांत और तेज़ पंजे
रहना सतर्क जबजब चिड़िया से तुम
और दूर रहो ज्वलन्तींघा वक्रचीर से”

हाथ में लेकर जबक तलवार
ढूंढे वह एक भयानक पुराना चांडाल
पसर गया नीचे एक टमटम पेड़ की छाँव
और सोचा अपना अगला पड़ाव

वो खड़ा ही था चिंतंग सोच में,
की गुस्से से भरा बकरसुर,
झोंकता आया घनान्त जंगल से
और चिल्लाने लगा गरजगुर

एक दो! एक दो! और बढे चलो!
जबक धार चली शू और शाक
मर गया था बकर, और उसका सिर जकड़
मदमस्त चला वह अपने घर

“क्या तुमने किया बकरसुर का विनाश?”
शाबाश मेरे लाल!
शष्नदार दिन! बज़ूम! बज़्ज़ा!
उसकी खुशान्न्ता थी बेमिसाल

खाचार समय था चातले बीजू,
घुमराते, गर्माते, मॆत में
दुजोर थे सारे दुर्बळु,
और खुम सीव भी थे शोम में